Religious violence and lies about development behind Modi's "great victory"

Ram Puniyani

In a careful analysis, Puniyani looks at India's recent election and its Prime Minister-elect Narendra Modi. The BJP's nationalism is strong wherever religious hostilities are intense. A call for change to the election system is in order.

Looking at Narendra Modi's claims about economic development, it becomes apparent that his party's election platform is a myth hiding the most violent form of Hindu nationalism, something that India's prime minister-elect knows very well, this according to Ram Puniyani, a social activist at the All India Secular Forum and the Centre for Study and Secularism. Puniyani deconstructs Modi's victory and that of Bharatiya Janata Party (BJP), by examining the main points of the campaign waged by Hindu nationalists.


The results of Parliamentary Elections are very interesting. With 31 per cent vote share BJP-Modi won 282 Parliament seats, Congress with 19 per cent vote share got 44 seats, BSP polled 4.1 percent of votes and drew a total blank, the Trinamool Congress won 3.8 percent of vote share with 34 seats, Samajwadi Party won 3.4 percent with five MPs, AIADMK with 3.3 got 37 seats, Mamta with 3.8 per cent of vote share got 32 seats while CPIM with 3.3 percent of vote share got nine seats. We should note that this time around Congress's 19.3 per cent votes translated into 44 seats while during last general elections of 2009 BJP's 18.5 per cent had fetched it 116 seats. That is a tale by itself, the crying need for electoral reforms that has been pending despite such glaring disparities that weaken the representative character of our Parliament. Many social activists have been asking for these reforms but in vain.
Modi has been of course the flavour of the season and this time around, it is being said that it was his plank of 'development' which attracted the voters to him, cutting across the caste and religious equations. How far is that true? Keeping aside the fact that Modi was backed to the hilt by Corporate, money flowed like water and all this was further aided by the steel frame of lakhs of RSS workers who managed the ground level electoral work for BJP. Thus Modi stood on two solid pillars, Corporate on one side and RSS on the other. He asserted that though he could not die for independence he will live for Independent India. This is again amongst the many falsehoods, which he has concocted to project his image in the public eye. One knows that he belongs to a political ideology and political stream of RSS-Hindutva, which was never a part of freedom struggle. RSS-BJP-Hindutva nationalism is different from the nationalism of freedom movement. Gandhi, freedom movement's nationalism is Indian Nationalism while Modi parivar's Nationalism is Hindu nationalism, a religious nationalism similar and parallel to Muslim nationalism of Jinnah: Muslim League. From the sidelines, RSS and its clones kept criticizing the freedom movement as it was for inclusive Indian nationalism, while Modi' ideological school, RSS is for Hindu nationalism. So there no question of people like him or his predecessors dying for freedom of the country.
There are multiple other factors that helped him to be first past the pole, his aggressive style, his success in banking upon weaknesses of Congress, his ability to communicate with masses supplemented by the lacklustre campaign of Congress and the Presidential style of electioneering added weight to Modi's success. Congress, of course, has collected the baggage of corruption and weak governance. The out of proportion discrediting of Congress begun by Anna movement, backed by RSS, and then taken forward by Kejriwal contributed immensely knocking Congress out of reckoning for victory. Kejrival in particular woke up to BJP's corruption a wee bit too late and with lots of reluctance for reasons beyond the comprehension. Anna, who at one time was being called the 'second Gandhi' eclipsed in to non-being after playing the crucial role for some time. Kejriwal pursuing his impressive looking agenda against corruption went on to transform the social movement into a political party and in the process raing lots of question on the nature and potentials of social movements. Kejrival's AAP, definitely split the anti Modi votes with great 'success'. AAP put more than 400 candidates and most of them have lost their deposits. Many of these candidates have excellent reputation and contribution to social issues and for engaging challenges related to social transformation. After this experience of electoral battlefield how much will they be able to go back to their agenda of social change-transformation through agitations and campaigns will remain to be seen.
Many commentators-leaders, after anointing Anna as the 'Second Gandhi' are now abusing Gandhi's name yet again by comparing the likes of Ramdeo and Modi to Mahatma Gandhi. One Modi acolyte went on to say Modi is better than Gandhi! What a shame to appropriate the name of Gandhi, the great unifier of the nation with those whose foundations are on the divisive ideology of sectarian nationalism.
Coming to the 'development' agenda, it is true that after playing his role in Gujarat carnage, Modi quickly took up the task of propagating the 'development' of Gujarat. This 'make believe' myth of Gujarat's development as such was state government's generous attitude towards the Corporate, who in turn started clamouring for 'Modi as PM' right from 2007. While the religious minorities started being relegated to the second class citizenship in Gujarat, the myth of Gujarat development started becoming the part of folk lore, for long unchallenged by other parties and scholars studying the development. When the data from Gujarat started being analysed critically the hoax of development lay exposed, but by that time it was too late for the truth of development to be communicated to the people far and wide. On the surface it appears as if this was the only agenda around which Modi campaigned. That's far from true. Modi as such used communal and caste card time and over again. This was done with great amount of ease and shrewdness. He did criticize the export of beef labelling it Pink revolution, subtly hinting the link of meat-beef to Muslim minorities. This converted an economic issue into a communal one. Modi spoke regularly against Bangla speaking Muslims by saying that the Assam Government is doing away with Rhinos for accommodating the Bangla infiltrators. He further added that they should be ready to pack their bags on 16th May when he will take over as the Prime Minister of the country. The communal message was loud and clear. BJP spokesmen have already stated that these Bangla speaking Hindus are refugees while the Muslim is infiltrators.
If one examines the overall scatter of the areas where BJP has won a very disturbing fact comes to one's mind. While at surface the plank of development ruled the roost there is definitely the subtle role played by communal polarization. BJP has mostly succeeded in areas where already communal polarization has been brought in through communal or violence or terrorist violence. Maharashtra, Gujarat, UP, MP, Bihar, Assam all these have seen massive communal violence in the past. While the states which have not come under the sway of BJP-Modi are the one's which have been relatively free from communal violence: Tamil Nadu, Bengal and Kerala in particular. Orissa is a bit of an exception, where despite the Kandhmal violence, Navin Patnaik's party is managing to be in power. The socio political interpretation of the deeper relations between acts of violence and victory of RSS-BJP-Modi needs to be grasped at depth; the polarizing role of communal-terrorist violence needs a deeper look. While on surface the development myth has won over large section of electorate, it has taken place in areas which have in past seen the bouts of violence. Most of the inquiry commission reports do attribute violence to the machinations of communal organization.
While overtly the caste was not used, Modi did exploit the word Neech Rajniti (Low level Politics) used by Priyanka Gandhi and converted it in to Neech Jati (low caste), flaunting his caste. At other occasions also he projected his caste, Ghanchi to polarise along caste lines.

What signal has been given by Modi's victory? The message of Mumbai, Gujarat Muzzafrnagar and hoards of other such acts has created a deep sense of insecurity amongst sections of our population. Despite Modi's brave denials and the struggles of social activists, justice delivery seems to be very slow, if at all, and it is eluding the victims. The culprits are claiming they are innocents and that they have got a 'clean chit'. While there are many firsts in Modi coming to power, one first which is not highlighted is that, this is the first time a person accused of being part of the carnage process is going to have all the levers of power under his control. So what are the future prospects for the India of Gandhi and Nehru, what are the prospects of the values of India's Constitution? Can Modi give up his core agenda of Hindu Nationalism, which has been the underlying ideology of his politics, or will he deliver a Hindu nation to his mentors? No prizes for guessing!

फ़ासीवाद की वैचारिकी, चरित्र, उद्भव और विकास की आर्थिक-सामाजिक पृष्ठभूमि और इतिहास को समझने के लिए कुछ जरूरी सामग्री

(नोट: इन पुस्तकों/लेखों/रिपोर्टों की सभी स्थापनाओं से हमारी-आपकी सहमति न ज़रूरी है, न सम्भव। अलग-अलग स्कूल के मार्क्‍सवादियों की स्थापनाओं में भी अन्तरविरोध हैं। पर इन सभी से आज के नवउदारवादी दौर में, पूरी दुनिया में और भारत में फ़ासीवादी शक्तियों के विविधरूपा नये उभार को समझने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नुक्ते और कुछ अन्तर्दृष्टियां मिलती हैं।)

इस सूची को समय-समय पर अपडेट करते रहेंगे, यदि आप भी कुछ सुझाव देना चाहें, तो कमेंट के रूप में अपने सुझाव दे सकते हैं।

1. Resistable Rise: A Fascism Reader - Edited by Shaswati Mazumdar and Margit Koves (Leftword Books, New Delhi

2. फ़ासीवाद : सिद्धान्‍त और व्‍यवहार - रोज़े वूर्दरों (ग्रंथशिल्‍पी, नयी दिल्‍ली)

3. फ़ासीवाद और उसकी कार्यपद्धति : पामीरो तोग्लियात्‍ती (ग्रंथशिल्‍पी, नयी दिल्‍ली)

4. फासीवाद: अयोध्‍या सिंह (ग्रंथशिल्‍पी, नयी दिल्‍ली)

5. Democracy and Fascism: Rajani Palme Dutt

6. Fascism and Social Revolution: Rajani Palme Dutt

7. The question of Fascism and Capitalist Decay - Rajani Palme Dutt

8. Unity of Working Class againstFascism - Georgi Dimitrov

9. The People's Front : Georgi Dimitrov

10. Youth against Fascism: Georgi Dimitrov

11. Fascism is war: Georgi Dimitrov

12. Fascism and Workers' Movement: James Cannon

13. The Rise of Fascism: F.L. Carsten

14. Fascism: Otto Bauer, in Botmore and Goode' eds. 'Austro-Marxism'.

15. Marxists in face of Fascism: ed. David Beetham

16. Open Question on Nazism: Tim Mason, In R. Samuel ed. 'People's History and Socialist Theory'.

17. Behemoth: The Structure and Practice of National Socialism: Franz Neumann

18. Fascism and Dictatorship: Nicos Poulantzas

19. The Struggle Against Fascism in Germany: Leon Trotsky

20. Towards a Marxist Theory of Fascism: Article by Dave Renton (

21. The Fascism Reader: ed. Aristotle Kallis (Routledge)

22. Fasism: A reader- ed. Roger Griffin

23. The Nature of Fascism: Roger Griffin

24. The Anatomy of Fascism: Robert Paxton

25. Communist Theories of Fascism: J. Commett ('Science and Society', 31/2)

26. The Routledge Campanion to Fascism and the Far Right: P. Davies and D. Lynch

27. Fascism : A History- R. Eatwell

28. Fascism: M. Neocleous

29. Theodor Adorno: Freudian Theory and the Pattern of Fascist Propaganda (1951)

30. English Translation of Arthur Rosenberg on Fascism as a Mass-Movement

31. Bourgeois Democracy and Fascism: Harpal Brar

32. Report on Fascism by the Communist Party of Italy delegate in IV Congress of the Comintern (Nov, 16th, 1922)

33. The Fascist Offensive and the Tasks of the Communist International in the Struggle of the Working Class against Fascism: Main Report delivered by Georgi Dimitrov at the Seventh World Congress of the Comintern

34. Fascism and Big Business (October 1938): Daniel Guérin

35. फासीवाद को समझने में मददगार अन्तोनियो ग्राम्शी के लेख:

i. Italy and Spain (1921)

ii. The Italian Parliament (1921)

iii. The Elections and Freedom (1921)

iv. Elemental Forces (1921)

v. The Old Order in Turin (1921)

vi. Socialists and Fascists (1921)

vii. Reactionary Subversiveness (1921)

viii. Leaders and Masses (1921)

ix. Bonomi (1921)

x. The "Arditi Del Popolo" (1921)

xi. The Development of Fascism (1921)

xii. Against Terror (1921)

xiii. The Two Fascisms (1921)

xiv. The Agrarain Struggle in Italy (1921)

xv. Parties and Masses (1921)

xvi. One year, (January 15, 1921)

xvii. Lessons (May, 1922)

xviii. The Italian Crisis (September, 1924)

xix. Democracy and Fascism (Nov. 1924)

xx. The Fall of Fascism (Nov. 1924)

xxi. Report to the Central Committee (Feb 1925)

xxii. Elements of the Situation (Nov 1925)

xxiii. The "Lyons Theses" (Jan. 1926)

xxiv. The Party's First Five Years (Feb. 1926)

xxv. A Study of the Italian Situation (Aug 1926)

xxvi. Notes on Italian History (Selections from the Prison Notebooks edited by Guentin Hoare and Nowell Smith)

भारत के विशेष संदर्भ में:

1. सांप्रदायिकता: एक परिचय - बिपन चंद्रा

2. खाकी निक्‍कर, भगवा झंडा: तपन बासु (ओरिएंट एंड लॉन्‍गमैन प्रेस)

3. Godse's Children - Subhash Gatade

4. Khaki shorts and saffron flags: Tapan Basu (Orient and longman press)

5. Confronting Saffron Demography- Jeffery and Jeffery

6. The Saffron Condition - Subhash Gatade

7. राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ - देसराज गोयल (राधाकृष्‍ण प्रकाशन)

8. फ़ासीवाद क्‍या है और इससे कैसे लड़ें - बिगुल पुस्तिका

9. Sampradayikta: Ek Parichay by Bipan Chandra

10. Fascism: Essays on Europe and India (edited by Jairus Banaji)

11. Audio: Romila Thapar Speaking on communalism and secularism 18 April 2013

12. The Political Culture of Fascism by Jairus Banaji

13. Hindutva’s Foreign Tie-Ups In The 1930’s: Archival Evidence by Marzia Casolari

14. X-Ray of a Fascist by Amit Sengupta (August 2013)

15. India: Carnage and the Motives - Anti Muslim violence and Anti Sikh Massacre by Ram Puniyani

16. Communalism in Modern India: A Theoretical Examination by Dilip Simeon [August 2012 - Revised version of 1986 article]

17. Text of 1948 Govt of India communique declaring RSS an Illegal organisation

18. The law of killing: a brief history of Indian fascism by Dilip Simeon

19. India – Laboratory of Fascism: Capital, Labour and Environment in Modi’s Gujarat

20. Armies of the Pure: the question of Indian fascism

21. India: Journey towards soft fascism

22. Communalism here, fascism there

23. Full Audio: ’Trajectories of Fascism: The Extreme-Right Movements in India and Elsewhere’ a lecture by Jairus Banaji ( - 18 March 2013)

24. Dhol Ki Pol - Part 1 and Dhol Ki Pol - Part 2 An Audio-tape on the history of communal elements | Delhi: Sampradayikta Virodhi Andolan (Movement Against Communalism), 1990, Hindi, 45 min

25. जर्मनी में फ़ासीवाद का उभार और भारत के लिए कुछ ज़रूरी सबक़

26. इटली में फ़ासीवाद के उदय से हमारे लिए अहम सबक

27. फ़ासीवाद का मुक़ाबला कैसे करें

28. क्यों ज़रूरी है रूढ़िवादी कर्मकाण्डों और अन्धविश्वासी मान्यताओं के विरुद्ध समझौताहीन संघर्ष?

29. देश में नये फासीवादी उभार की तैयारी

आस्था की तिजारत

पिछले लगभग तीन दशकों में, हमारे समाज ने धर्म के नाम पर बहुत कुछ देखा-भोगा है। एक ओर धार्मिक पहचान से जुड़े मुद्दे राष्ट्रीय परिदृश्य के केन्द्र में आ गए हैं वहीं हजारों ऐसे स्वघोषित भगवान, बाबा और आचार्य ऊग आए हैं, जो स्वयं को दैवीय शक्तियों से लैस बताते हैं। वे यह चाहते हैं कि राज्य और समाज उन्हें विशेष दर्जा दे और कब-जब, अनौपचारिक तौर पर ही सही, राज्य उन्हें कुछ विशेषाधिकार देता भी है। समाज उन्हें सम्मान की दृष्टि से देखता है।
यह प्रवृत्ति एक बार फिर हाल में तब सामने आई जब आसाराम बापू पर एक अवयस्क लड़की ने बलात्कार का आरोप लगाया। इस तरह के मामलों में आरोपी की तुरंत गिरफ्तारी की जानी चाहिए। परन्तु आसाराम बापू को गिरफ्तार करने में पुलिस ने कई दिन लगा दिए और उन्हें बड़ी कठिनाई से और काफी नाटक-नौटंकी के बाद गिरफ्तार किया जा सका। बापू ने अपनी गिरफ्तारी टालने के लिए कई बहाने बनाए - मेरे पूर्व निर्धारित कार्यक्रम हैं, मैं बीमार हूँ, मेरे रिश्तेदार की मौत हो गई है, आदि। परन्तु अंततः, दबाव के चलते, बापू को उनके इंदौर स्थित आश्रम से 31 अगस्त 2013 को गिरफ्तार कर लिया गया।
जहां तक धन-दौलत, आश्रमों की संख्या और अनुयायियों की भीड़ का सवाल है, आसाराम बापू, निःसंदेह, देश के शीर्षस्थ बाबाओं में से एक हैं। उनके अनुयायियों में अनेक प्रभावशाली व धनी लोग तो हैं ही, ऐसे राजनीतिज्ञों की भी कोई कमी नहीं है जो उनका बचाव करते हैं।  ऐसे ही कुछ राजनीतिज्ञों ने चुनावी समीकरणोंके चलते, उन्हें जेल जाने से बचाने की पूरी कोशिश की। यह पहली बार नहीं है कि बापू पर आपराधिक मामलों में शामिल होने के आरोप लगे हों। उन पर सरकारी जमीनों पर कब्जा करने के आरोप अनेक बार लगे परन्तु सरकारी मशीनरी ने उनके खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की। उनके अहमदाबाद और छिन्दवाड़ा के आश्रमों में दो-दो बच्चों की रहस्यपूर्ण परिस्थितियों में मृत्यु हो गई परन्तु इन घटनाओं को भी दबा दिया गया।
देश में इस तरह के खेल खेलने वाले आसाराम बापू अकेले नहीं हैं। दर्जनों ऐसे बाबा हैं, जिन्होंने अरबों रूपयों की संपत्ति अर्जित कर ली है। उनके आश्रमों में हुई हत्याओं में उनकी संलिप्तता के सुबूत मिले हैं (शंकराचार्य जयेन्द्र सरस्वती व स्वर्गीय भगवान सत्यसांई)। सेक्स स्केण्डलों में फंसे बाबाओं की सूची बहुत लंबी है और इस संदर्भ में स्वामी नित्यानन्द महाराज सबसे आगे हैं, जो यह दावा करते हैं कि वे भगवान कृष्ण के अवतार हैं। मायामोह से ऊपर उठने की बात करते हुए ये बाबा अत्यंत ऐश्वर्यपूर्ण जीवन बिताते हैं।

इन बाबाओं के लिए संतशब्द का प्रयोग विडंबनापूर्ण है। क्या इनकी तुलना कबीर, तुकाराम, नामदेव, पलटू व रेदास जैसे मध्यकालीन संतों से की जा सकती है, जो नीची जातियों के थे, श्रम करके अपना पेट भरते थे और गरीबों व वंचितों के बीच जीते थे? उन्होंने सामाजिक कुरीतियों का विरोध किया और सामाजिक असमानता पर प्रश्न उठाए। उन्होंने वंचित वर्गों की व्यथा को स्वर दिया। इस अन्यायपूर्ण दुनिया की चर्चा करते हुए महाराष्ट्र के एक संत चोखमेला लिखते हैं, ‘‘इस दुनिया में जो अनाज उगाता है वह भूखा है, जो कपड़े बुनता है, वह वस्त्रहीन है और जो मकान बनाता है, वह खुले आसमान के नीचे सोने पर मजबूर है’’। ये संत सत्ता से हमेशा दूर रहे और उन्हें कई बार सत्ताधारियों का कोपभाजन भी बनना पड़ा। सूफी संत निजामुद्दीन औलिया ने बादशाह को अपनी कुटिया में आने से मना कर दिया था। कबीर ने जातिप्रथा का विरोध किया, धर्म के आधार पर समाज को बांटने की खिलाफत की और सामाजिक पदानुक्रम की आलोचना की। इन संतों के अधिकांश अनुयायी गरीब और कमजोर वर्गों के लोग थे।
आज के इन तथाकथित संतों के चेले मुख्यतः धनिक वर्ग से आते हैं और सत्ताधारियों और धनपशुओं से उन्हें भारी मात्रा में दान मिलता है। इन संतों ने अपने विशाल साम्राज्य खड़े कर लिये हैं, जो वैभवपूर्ण व अत्यंत शक्तिशाली हैं। यह दिलचस्प है कि भारत में धर्म से जुड़े लोगों द्वारा समाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की लंबी परम्परा रही है। शंकराचार्य की परंपरा तो है ही, देश भर में ऐसे अनेक मठ, आश्रम और धार्मिक केन्द्र हैं, जहां धर्मशास्त्र और धर्म के दार्शनिक पक्ष पर गंभीर और बौद्धिक चर्चायें होती हैं। आज के बाबाओं को न तो धर्मशास्त्र से मतलब है और ना ही धर्म के दार्शनिक पक्ष से। इसके विपरीत, मध्यकालीन संतों की जड़ें समाज में थीं, वे सामाजिक मुद्दों पर बात करते थे और सामाजिक बुराईयों के खिलाफ संघर्ष करते थे। जैसे कबीर ने चक्की की तुलना भगवान की मूर्ति से की और मुल्ला को उसकी तेज बांग (अजान) के लिए फटकारा।
आज के बाबाओं का सामाजिक मुद्दों से कोई लेनादेना नहीं है। हमारे देश में अलग-अलग प्रकार के इतने ढेर सारे बाबा हैं कि जनता को अपनी ओर आकर्षित करने के उनके तरीकों में एकरूपता ढूंढना आसान नहीं हैं। परन्तु कुछ मोटी-मोटी बातें स्पष्ट हैं। इन सभी को दर्शनशास्त्र, धर्म या सामाजिक मुद्दों का गहरा ज्ञान नहीं है। उन्होंने कुछ फार्मूले ईजाद कर लिये हैं जिन्हें वे गीत संगीत के साथ प्रस्तुत करते हैं। इनमें से कुछ प्रवचन देते हैं, जिससे शायद समाज के उस वर्ग, जो स्वयं को असुरक्षित महसूस करता है और कई तरह की दुविधाओं से ग्रस्त है, के मन को शान्ति मिलती है। कुछ तो शुद्ध कपटी हैं जैसे निर्मल बाबा, जो चटनी का रंग बदलकर लोगों की समस्याएं सुलझाते हैं। इनमें से अधिकांश, प्रवचनों के अलावा, ध्यान और योग का इस्तेमाल भी करते हैं। मुरारी बापू जैसे कुछ बाबा अपने अनुयायियों के साथ लक्जरी क्रूज में विश्व भ्रमण करते हुए गीता पर प्रवचन देते हैं।
स्पष्टतः, इन दोनों श्रेणियों के संतों का जीवन और कर्म एकदम विरोधाभासी है। कबीर-निजामुद्दीन औलिया व आसाराम बापू-निर्मल बाबा की श्रेणियों में कोई समानता नहीं है। कार्ल मार्क्स का एक प्रसिद्ध उद्धरण है, ‘‘धर्म, दमित व्यक्ति की आह है,  हृदयहीन दुनिया का हृदय है, संगदिल जगत की आत्मा है। वह लोगों की अफीम है।’’ यह वाक्य ढेर सारी विविधताओं से युक्त संतों का विभेदीकरण करने में हमारी मदद कर सकता है। एक ओर है पुरोहित वर्ग, जो धर्म की संस्था और धार्मिक रीति-रिवाजों का आधिकारिक-अनाधिकारिक रक्षक है। इनमें शामिल हैं पंडित, मौलाना, ग्रन्थी और पादरी। दूसरी और हैं मध्यकालीन संत, जो अलग-अलग धर्मों के थे, जिनमें शामिल थे भक्ति और सूफी संत, जो धर्म की भाषा में बात तो करते थे परन्तु उनका न तो कर्मकाण्डों से कोई लेनादेना था और ना ही सत्ता से। और तीसरी श्रेणी आज के बाबाओं की लंबी-चैड़ी सेना है जिनमें आसाराम बापू, बाबा रामदेव व श्री श्री रविशंकर जैसे राष्ट्रीय स्तर के बाबाओं से लेकर क्षेत्रीयप्रादेशिक व शहरी स्तर के बाबा शामिल हैं।
पुरोहित वर्ग, सत्ता के ढांचे का हिस्सा था। वह जमींदारों और राजाओं का हितैषी था। महाराष्ट्र में शेठजी-भाटजी (जमींदार-ब्राह्मण) शब्द प्रचलित है। इसी तरह राजा-राजगुरू और नवाब-शाही इमाम की भी जोड़ियां थीं। इस श्रेणी का सबसे उत्तम उदाहरण है अंग्रेजी शब्दसमूह किंग एण्ड पोप’ (राजा और पोप)। राजा-राजगुरू, नवाब-शाही इमाम, किंग एण्ड पोप, ये सभी समाज में यथास्थितिवाद के हामी थे और उस सामाजिक व्यवस्था को बनाए रखना चाहता थे जो गरीब किसानांे का खून चूसती थी। वे आमजनों को धर्म के नशे में गाफिल रखते थे ताकि वे दिनरात कड़ी मेहनत करते रहें और व्यवस्था के विरूद्ध विद्रोह का विचार उनके मन में आए ही ना। हम कह सकते हैं कि मध्यकालीन संत, इस हृदयहीन, शोषणकारी विश्व में दमितों की आह थे।
जहां तक आसाराम बापू-निर्मल बाबा जैसे कथित संतों की श्रेणी का सवाल है, वे भी समाज को अफीम परोस रहे हैं। वे कभी व्यवस्था पर प्रश्न नहीं उठाते, वे कभी अन्याय का विरोध नहीं करते और धर्म के नाम पर हो रहे सामाजिक अत्याचारों पर चुप्पी साधे रहते हैं। इसके साथ ही, वे राजनीतिज्ञों का संरक्षण हासिल करते हैं, धन कमाते हैं और समाज में अत्यंत प्रभावशाली व्यक्तित्व बन जाते हैं। इस समय भले ही भाजपा हिन्दू धर्म के नाम पर बाबाओं के पक्ष में आवाज उठा रही हो परन्तु सच यह है कि किसी राजनीतिक दल में यह साहस नहीं है कि वह इन बाबाओं की खुलकर आलोचना कर सके। ये बाबा, लोगों को धर्म की अफीम चटाकर, उन्हें तनाव से मुक्ति दिला रहे हैं और धर्म का लबादा ओढ़कर अपनी चमकदार और भव्य छवि बना रहे हैं। उन पर हाथ डालना आसान नहीं होता और इसलिए जब वे कोई अपराध करते हैं तब भी वे कानून के शिकंजे से बचे रहते हैं। जब तक उन पर लगे आरोप बहुत गंभीर और स्पष्ट न हों-जैसा कि आसाराम के मामले में है-तब तक उन्हें राजनीतिज्ञों और उनके अंधानुयायियों का संरक्षण मिलता रहता है। यहां स्मरणीय है कि आसाराम बापू और अटलबिहारी वाजपेयी ने शंकररमन हत्याकांड में शंकराचार्य जयेन्द्र सरस्वती की गिरफ्तारी के विरोध में दिल्ली में धरना दिया था। इसी तरह, आसाराम बापू के आश्रमों में बच्चों की हत्या के मामलों को दबा दिया गया। बाबाओं की रक्षा करने के लिए राजनीतिज्ञों का आगे आना तो आम बात है।
यह दिलचस्प है कि इन बाबाओं का उदय, धर्म की राजनीति के परवान चढ़ने के साथ ही हुआ है। ये बाबा किसी न किसी रूप में उस विमर्श से जुड़े हुए हैं, जिसमें धर्म को राष्ट्रवाद से जोड़ा जाता है। वे इस विमर्श का प्रचार करते हैं और उसे सही बताते हैं। इनमें से कई दबी-छुपी भाषा में मनुस्मृति के मूल्यों और जातिगत व लैंगिक पदानुक्रम का बचाव भी करते हैं। ये बाबा लोग सामाजिक रिश्तों में यथास्थितिवाद के हामी हैं जैसे श्री श्री रविशंकर जातिगत समरसता की बात करते हैं। वे अम्बेडकर की तरह जाति के उन्मूलन के हामी नहीं हैं।

हम जानते हैं कि लोगों का एक तबका उन्हें भगवान की तरह पूजता है और उसे मानसिक दबावों से मुक्ति पाने के लिए उनकी जरूरत है। यह भी स्पष्ट है कि आर्थिक और राजनैतिक कारकों से जनित सामाजिक असुरक्षा के भाव ने इन बाबाओं के अनुयायियों की संख्या में आशातीत वृद्धि की है। ये सब धर्म और आस्था का लबादा ओढ़े रहते हैं इसलिए उन पर प्रश्न उठाना कठिन हो जाता है। यह चोला उन्हें कुछ विशेषाधिकार दे देता है और वे देश के कानून से कुछ हद तक ऊपर उठ जाते हैं। आमजनों की आस्था का सम्मान करने की आवश्यकता से कोई इंकार नहीं कर सकता परन्तु इसकी कोई सीमा होनी चाहिए। किसी भी व्यक्ति को यह इजाजत नहीं दी सकती कि वह समाज में अतार्किकता या अंधविश्वास फैलाए या कानून का मखौल बनाए। 
राम पुनियानी

(मूल अंग्रेजी से हिन्दी रूपांतरण अमरीश हरदेनिया) (लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)